Cpx24.com CPM Program

अरबपति आभूषण डिजाइनर NIRAV MODI, 2 जनवरी को पंजाब नेशनल बैंक से 280 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के बारे में सीबीआई को शिकायत मिलने से पहले 1 जनवरी को देश छोड़ दिया था, निरव मोदी, 2013 के बाद से अमीर और प्रसिद्ध भारतीयों की सूची पर एक नियमित है, बेल्जियम नागरिक उनके भाई निशल ने भी 1 जनवरी को देश छोड़ दिया, जबकि अमेरिका नागरिक पत्नी अमी और गीतांजलि आभूषण श्रृंखला के भारतीय प्रवर्तक मेहुल चोकसी 6 जनवरी को चले गए, प्रवर्तन निदेशालय ने उनके खिलाफ पहली प्राथमिकी दर्ज करने के बाद सभी चारों के खिलाफ lookout circular जारी किया है।

माना जाता है कि NIRAV MODI, जो  प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी तथा भारतीय मुख्य कार्यकारी अधिकारियों की एक समूह तस्वीर में स्विट्जरलैंड में भी मौजूद थे, जो प्रेस सूचना ब्यूरो द्वारा 23 जनवरी को विश्व आर्थिक मंच में जारी किया गया है.
अधिकारियों के अनुसार छह दिनों पहले बैंक ने सीबीआई को उसके खिलाफ अपनी पहली शिकायत भेजी थी, अधिकारियों ने कहा कि वह एक भारतीय नागरिक हैं लेकिन उनके भाई निशल और पत्नी अमी भारतीय नागरिक नहीं हैं कथित तौर पर पंजाब नेशनल बैंक को 280 करोड़ रु धोखा देने के लिए 31 जनवरी को सीबीआई ने पत्नी, भाई और बिजनेस पार्टनर चुक्सी के साथ शिकायत बुक किया था परंतु बैंक ने मंगलवार को सीबीआइ को दो और शिकायतें भेजीं और कहा कि यह घोटाला 11,400 करोड़ रुपये से अधिक का है

PNB में 11,400 करोड़ रुपये का धोखाधड़ी  के लिए कौन जिम्मेदार है?

घोटाले में कई और चौंकाने वाली जानकारियां सामने आई हैं। करीब 11,400 करोड़ रुपये के इस फर्जीवाड़े का असर दो सरकारी बैंक और एक प्राइवेट बैंक पर पड़ेगा.

The LoUs फर्जीवाड़ा

इस पूरे मामले की जड़ मे लेटर ऑफ अंडरटेकिंग यानी एलओयू शामिल है। यह एक तरह की गारंटी होती है, जिसके आधार पर दूसरे बैंक खातेदार को पैसा मुहैया करा देते हैं। अब यदि खातेदार डिफॉल्ट कर जाता है तो एलओयू मुहैया कराने वाले बैंक की यह जिम्मेदारी होती है कि वह संबंधित बैंक को बकाए का भुगतान करे।

खबरें हैं कि शक के आधार पर पीएनबी ने अपने 10 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है।

पीएनबी ने सीबीआई को बताया कि आरोपी को पहला एलओयू 16 जनवरी को जारी किया गया था। यह घोटाला कथित रूप से  नीरव मोदी ने किया है। इस घोटाले में कई बड़ी आभूषण कंपनियां मसलन गीतांजलि, गिन्नी और नक्षत्र भी विभिन्न जांच एजेंसियों की जांच के दायरे में आ गई हैं  सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय उनकी विभिन्न बैंकों से सांठगांठ और धन के अंतिम इस्तेमाल की जांच कर रहे हैं।